Connect with us

POLITICAL

विधानसभा चुनाव : फेसबुक, ट्विटर, वाट्सएप, यूट्यूब पर POST करने से पहले जान लें ये

Published

on

विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद आचार संहिता लागू हो गई है। इसके बाद जिला कलेक्टरों ने भी अपने-अपने इलाके में निषेधाज्ञा लागू कर दी है। इस दौरान कई तरह की पाबंदी रहेगी।

राजस्थान में विधानसभा चुनाव 7 दिसंबर को होंगे और रिजल्ट 11 दिसंबर को आएगा। इसकी घोषणा के बाद कलेक्टरों ने निषेधाज्ञा लागू कर दी है। विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा नजर सोशल मीडिया पर रहेगी। वायरल पोस्ट पर खास नजर रखने के निर्देश है। इसके लिए टीमें भी बनाई गई है। कलक्टरों ने निषेधाज्ञा के जो आदेश जारी किए हैं उनमें विधानसभा चुनाव के दौरान सोशल मीडिया पर खास नजर पर जोर दिया गया है।

आदेशों के अनुसार कोई भी व्यक्ति या संस्था इन्टरनेट तथा सोशल मीडिया जैसे— फेसबुक, ट्विटर, वाट्सएप, यूट्यूब, आदि के माध्यम से किसी प्रकार का धार्मिक उन्माद, जातिगत द्वेष या दुष्प्रचार नही करेगा।

निषेधज्ञा लागू, इन का रखें ध्यान

कोई भी व्यक्ति किसी के समर्थन या विरोध में सार्वजनिक एवं राजकीय सम्पतियों पर किसी तरह का नारा-लेखन या प्रति-चित्रण नहीं करेगा, ना ही करवाएगा। और न ही किसी तरह के पोस्टर, होर्डिंग आदि लगाएगा। और न ही सार्वजनिक सम्पतियों का विरूपण करेगा या करवायेगा। यदि कोई व्यक्ति किसी भी निजी सम्पति पर विज्ञापन करता है तो उसके लिए भवन स्वामी की लिखित पूर्वानुमति जरुरी होगी।

कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार का विस्फोटक पदार्थ, रासायनिक पदार्थ, आग्नेय अस्त्र-शस्त्र, जैसे- रिवाल्वर, पिस्टल, बंदूक, एम.एल गन, बी.एल. गन, आदि एवं अन्य हथियार जैसे गण्डासा, फर्सी, तलवार, भाला, कृपाण, चाकू, छुरी, बर्छी, गुप्ती, कटार, धारिया, बाघनख (शेर-पंजा) जो किसी धातु के शस्त्र के रूप में बना हो आदि तथा विधि द्वारा प्रतिबन्धित हथियार और मोटे घातक हथियार-लाठी आदि सार्वजनिक स्थानों पर धारण कर न तो घूमेगा, और न ही प्रदर्शन करेगा और न ही साथ में लेकर चलेगा।

आदेश ड्यूटी पर तैनात सीमा सुरक्षा बल, राजस्थान सशस्त्र पुलिस बल, राजस्थान सिविल पुलिस, चुनाव ड्यूटी में तैनात अद्र्धसैनिक बल, होमगार्ड एवं चुनाव ड्युटी में मतदान दलों में तैनात अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा।

यह प्रतिबंध बारात एवं शवयात्रा पर लागू नहीं होगा

उपखण्ड मजिस्ट्रेट की स्वीकृति के बिना किसी भी सार्वजनिक स्थल पर कोई भी जुलूस, सभा, धरना, भाषण आदि का आयोजन नहीं करेगा एवं न ही संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति के बिना ध्वनि प्रसारण यंत्र का प्रयोग किया जावेगा। ध्वनि प्रसारण यंत्र के लिए अनुमति संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट द्वारा प्रातः 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक दी जा सकेगी। यह प्रतिबंध बारात एवं शवयात्रा पर लागू नहीं होगा।

कोई भी व्यक्ति सांप्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुंचाने वाले तथा उत्तेजनात्मक नारे नहीं लगाएगा। न ही ऐसा कोई भाषण और उद्बोधन देगा, न ही ऎसे किसी पम्पलेट, पोस्टर या अन्य प्रकार की चुनाव सामग्री छापेगा या छपवाएगा, वितरण करेगा या करवाएगा और न ही किसी एम्प्लीफायर, रेडियो, टेपरिकार्डर, लाउडस्पीकर,, ऑडियो-वीडियो कैसेट या अन्य किसी इलैक्ट्रानिक उपकरणों के माध्यम से इस प्रकार का प्रचार-प्रसार करेगा अथवा करवाएगा, और न ही ऎसे कृत्यों के लिए किसी को दुष्प्रेरित करेगा।

EVENT

RSS ने सरकारों से कहा: परिवार मजबूत रहें, इसके लिये उठाये कदम

Published

on

ग्वालियर में चल रही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आरएसएस की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में शनिवार को सशक्त परिवार कैसे बने, इसको लेकर मंथन हुआ।

इस दौरान प्रस्ताव पास किया गया। जिसमें परिवारों का विखंडन रोकने के लिये आवश्यक कदम उठाने पर जोर दिया गया। आरएसएस के कार्यकर्ताओं से इस मिशन से जुड़ने का आह्वान किया गया है। प्रस्ताव में मां की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया गया। प्रतिनिधि सभा ने सभी सरकारों से भी अनुरोध किया है कि वे परिवार को सशक्त बनाने के लिये जरूरी कदम उठाये।

बैठक में समाज में बढ़ते अपराधों और विकृतियों पर गहरी चिंता जताई गई। इसके लिए परिवार विखंडन को जिम्मेदार ठहराया गया। वक्ताओं का मानना है कि इससे हिंदू समाज के सामने कई तरह की चुनौतियां खड़ी हो रही है। प्रस्ताव के अनुसार, परिवार व्यवस्था हमारे समाज का मानवता को दिया हुआ अनमोल योगदान है। अपनी विशेषताओं के कारण हिन्दू परिवार व्यक्ति को राष्ट्र से जोड़ते हुए वसुधैव-कुटुम्बकम् तक ले जाने वाली यात्रा की आधारभूत इकाई है। परिवार व्यक्ति की आर्थिक व सामाजिक सुरक्षा की सम्पूर्ण व्यवस्था के साथ-साथ नई पीढ़ी के संस्कार निर्मिति एवं गुण विकास का महत्त्वपूर्ण माध्यम है। हिन्दू समाज के अमरत्व का मुख्य कारण इसका बहुकेन्द्रित होना है एवं परिवार व्यवस्था इनमें से एक सशक्त तथा महत्त्वपूर्ण केन्द्र है।

एकल परिवारों की बढ़ती संख्या पर चिंता

प्रस्ताव में संयुक्त परिवारों की संख्या कम होने पर चिंता जताई गई। एकल परिवार संस्कृति से एकाकीपन बढ़ रहा है। इसके परिणामस्वरूप नशाखोरी, हिंसा, जघन्य अपराध तथा आत्महत्याएँ चिन्ताजनक स्तर पर पहॅुंच रही हैं। परिवार की सामाजिक सुरक्षा के अभाव में वृद्धाश्रमों की सतत वृद्धि चिंताजनक है।

परिवार संरक्षण के लिये अपील

समाज निर्माण की दिशा में पूज्य साधु-सन्तों एवं धार्मिक-सामाजिक-शैक्षणिक-वैचारिक संस्थाओं की सदैव महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है. प्रतिनिधि सभा इन सबसे भी अनुरोध करती है कि वे परिस्थिति की गंभीरता को समझकर परिवार संस्था को सुदृढ़ बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास करें।

प्रचार-प्रसार से जुड़े संस्थाओं से अपील की गई है कि वे सकारात्मक रवैया अपनाये और परिवार की जड़ें मजबूत करने का प्रयास करें।

फिल्म निर्माताओं से अपील की गई है कि वे ऐसी फिल्मों का निर्माण करें जिससे परिवार मजबूत बनें।

प्रतिनिधि सभा सभी सरकारों से भी अनुरोध करती है कि वे शिक्षा-नीति बनाने से लेकर परिवार सम्बंधी कानूनों का निर्माण करते समय परिवार व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में अपना रचनात्मक योगदान दें।

परिस्थितिजन्य विवशताओं के कारण एकल परिवारों में रहने के लिये बाध्य हो रहे व्यक्ति भी अपने मूल परिवार के साथ सजीव संपर्क रखते हुए निश्चित अंतराल पर कुछ समय सामूहिक रूप से अवश्य बिताएँ।

Continue Reading

EVENT

शबरीमाला: RSS का आरोप हिंदुओं पर ज्यादती कर रही है केरल सरकार

Published

on

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा शुक्रवार से यहां ग्वालियर में शुरू हुई। इस प्रतिनिधि सभा में शबरीमला मंदिर मामला और परिवार व्यवस्था के संरक्षण पर पारित किए जाएंगे।

यहां केदारधाम स्थित सरस्वती शिशु मंदिर के सभागार में बैठक का शुभारंभ सरसंघचालक मोहन भागवत और सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने भारतमाता के चरणों में पुष्प अर्पित कर किया। बैठक के दौरान विभिन्न सत्रों में होने वाली चर्चा की पत्रकारों को जानकारी दी। सह सरकार्यवाह डॉ. मनमोहन वैद्य ने बताया कि शबरीमला देवस्थान मामला सदियों पुरानी धार्मिक परंपरा से जुड़ा है। इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय के दखल की आड़ लेकर केरल सरकार हिन्दू श्रद्धालुओं के साथ ज्यादाती कर रही है। इस विषय पर बैठक में प्रस्ताव पारित किया जाएगा।

बैठक में वर्तमान परिस्थितियों में परिवार व्यवस्था के समक्ष चुनौतियों पर भी चर्चा होगी। संघ इस विषय में भारतीय दर्शन के अनुसार ‘मैं से हम’ तक जाने की प्रक्रिया पर समाज के बीच काम करेगा।

आरएसएस की प्रतिनिधि सभा

वैद्य ने बताया कि अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक संघ कार्य के संबंध में निर्णय लेने वाली सबसे बड़ी संस्था है। इसकी बैठक वर्ष में एक बार आयोजित की जाती है। यह बैठक एक साल दक्षिण में, एक साल उत्तर में एवं तीसरे वर्ष नागपुर में होती है। जहां प्रति दो हजार स्वयंसेवकों पर एक प्रतिनिधि का चयन किया जाता है। यह बैठक संगठन कार्य के विस्तार, दृढ़ीकरण एवं विविध प्रांतों के विशेष कार्य, प्रयोग एवं अनुभव साझा करने की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण है। बैठक में समाज जीवन में सक्रिय 35 संगठनों के कार्यकर्ताओं द्वारा भी वृत्त रखा जाता है। इसके अलावा संघ शिक्षा वर्गों के प्रवास व प्रशिक्षण तथा अगले वर्ष की कार्ययोजना भी इस बैठक में तैयार की जाती है।

राम मंदिर मामले पर सवाल को लेकर डॉ. वैद्य ने कहा कि इस मामले में संबंधित पक्ष न्यायालय में अपनी बात रख चुके हैं। अब इसे सर्वोच्च न्यायालय को देखना है। बैठक में लोकसभा चुनाव पर चर्चा के सवाल पर उन्होंने कहा कि चुनावी राजनीति पर चर्चा नहीं होगी, लेकिन सभी लोग मतदान प्रक्रिया में भाग लें और चुनाव में 100% मतदान हो, इस के लिए स्वयंसेवक समाज में जनजागरण करेंगे।

Continue Reading

NEWS

राजस्थान विधानसभा चुनाव के नतीजे, जानिये कौन जीता-कौन हारा

Published

on

Rajasthan Assembly Elections

Rajasthan Assembly Elections  के रिजल्ट सामने आ चुके है। राजस्थान में किस सीट पर कौन जीता, जानियें

  • खींवसर से हनुमान बेनीवाल चुनाव जीते।
  • जयपुर में मालवीय नगर सीट से स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ जीते। उन्होंने कांग्रेस की अर्चना शर्मा को हराया है।
  • उदयपुर से गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया चुनाव जीत गये है। उन्होंने कांग्रेस की कद्दावार नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री गिरिजा व्यास को हराया हैं। हालांकि शुरुआती दौर में कटारिया पीछे चल रहे थे।
  • टोंक जिले की निवाई से कांग्रेस के प्रशांत बैरवा ने भाजपा के रामसहाय वर्मा 43889 वोटों से हराया है।
  • अजमेर जिले की मसूदा से कांग्रेस के राकेश पारीक ने भाजपा के सुशील कुमार को हराया है।
  • बीकानेर में खाजूवाला से कांग्रेस के गोविंदराम विजयी घोषित हुये है। उन्होंने भाजपा के विश्वनाथ मेघवाल को हराया है।
  • अलवर जिले की तिजारा विधानसभा सीट से बसपा के संदीप कुमार ने कांग्रेस के दुर्रू मियां को 4457 वोटों से हराया है।
  • भीलवाड़ा के जिले के मांडल से कांग्रेस के रामलाल जाट ने ने प्रद्युम्न सिंह को 8065 वोटों से हराया है।
  • भरतपुर जिले की नगर विधानसभा सीट से बसपा के बाजिब अली ने सपा के नेमसिंह को 25467 वोटों से हराया है।
  • जयपुर में हॉट सीट विद्याधर नगर से भाजपा के नरपतसिंह राजवी चुनाव जीत गये है।
  • कांग्रेस के कद्दावार नेता रामेश्वर डूडी नोखा से चुनाव हार गये है। जाट नेता डूडी कांग्रेस में सीएम पद के दावेदारों में शामिल थे। उन्हें भाजपा के बिहारीलाल ने हराया है।
  • भीलवाड़ा से भाजपा के विट्ठल अवस्थी ने कांग्रेस के ओमप्रकाश को हराया है।
  • अलवर जिले की एसटी के आरक्षित सीट राजगढ़ लक्ष्मण गढ़ से कांग्रेस के जौहरीलाल मीना ने भाजपा के विजय कुमार मीना को 30298 वोटों से हराया है।
  • अजमेर उत्तर से शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी चुनाव जीत गए है। उन्होंने कांग्रेस के महेंद्र सिंह को हराया है।
  • झालावाड़ की डग विधानसभा सीट से भाजपा के कालूराम ने कांग्रेस के मदन लाल को 19513 वोटों से हराया है।
  • बाड़मेर जिले की पचपदरा विधानसभा सीट से कांग्रेस के मदन प्रजापत ने भाजपा के अमराराम को 2395 वोटों से हराया है।
  • सिरोही जिले की एससी की सुरक्षित सीट रेवदर से भाजपा के जगसी राम ने कांग्रेस के नीरज डांगी को 14604 वोटों से हराया है।
  • वसुंधरा सरकार में कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी चुनाव हार गये है। अंता विधानसभा सीट पर भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे सैनी को कांग्रेस के प्रमोद जैन भाया ने हराया है। भाया गहलोत सरकार में मंत्री रह चुके हैं।
  • सिरोही जिले में एसटी की आरक्षित सीट पिंडवाड़ा-आबू से भाजपा के समाराम गरासिया ने कांग्रेस के लालाराम को 26974 वोटों से हराया है। भाजपा प्रत्याशी को 69360 तथा कांग्रेस प्र्त्याशी को 42346 वोट मिले है।
  • श्रीगंगानगर जिले में एससी की सुरक्षित सीट अनूपगढ़ से भाजपा की संतोष ने कांग्रेस के कुलदीप इंदौरा को 21124 वोटों से हराया है। कुलदीप इंदौरा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ​हीरालाल इंदौरा के बेटे है। उन्हें 58259 वोट मिले हैं जबकि संतोष को 79383 वोट मिले है।
  • जयपुर में सिविल लाइंस विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रतापसिंह खाचरियावास चुनाव जीते है। उन्होंने भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और वसुंधरा सरकार में सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्री अरूण चतुर्वेदी को हराया है।
  • भरतपुर जिले के कामां से कांग्रेस की जाहिदा खान चुनाव जीती। जाहिदा ने भाजपा के जवाहर सिंह को हराया।
  • बाड़मेर जिले की बाड़मेर विधानसभा सीट कांग्रेस ने जीती है। यहां से कांग्रेस के मेवाराम जैन ने भाजपा के कर्नल सोनाराम को कड़ी शिकस्त दी है।
  • बूंदी जिले के हिंडौली से कांग्रेस अशोक चांदना चुनाव जीत चुके है। उन्होंने भाजपा के आमेंद्र सिंह हाडा को हराया है।
  • कोटा जिले की कोटा उत्तर विधानसभा सीट कांग्रेस के खाते में गई है। यहां से पूर्व मंत्री शांति कुमार धारीवाल ने भाजपा के प्रहलाद गुंजल को हराया है।
  • अजमेर जिले की केकड़ी विधानसभा सीट से डॉ. रघु शर्मा चुनाव जीत चुके है। रघु शर्मा अभी अजमेर से सांसद है। उन्होंने भाजपा के राजेंद्र विनायक को हराया है।
  • अलवर जिले की बहरोड विधानसभा सीट कांग्रेस के खाते में गई है। बहरोड से कांग्रेस के बलजीत यादव ने भाजपा के रामचंद्र यादव को हराया है।
  • अलवर जिले की अलवर ग्रामीण से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता टीकाराम जूली ने भाजपा प्रत्याशी मास्टर रामकिशन को हराया है।अलवर ग्रामीण एससी की आरक्षित सीट है।
  • कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट टोंक विधानसभा से चुनाव जीत गये है। उन्होंने यहां से वसुंधरा सरकार में परिवहन मंत्री युनूस खान को हराया है। भाजपा ने युनूस खान के जरिये मुस्लिम कार्ड खेलते हुए सचिन पायलट को घेरने की कोशिश की थी।
  • भरतपुर जिले की डीग कुम्हेर सीट से कांग्रेस के कद्दावर नेता विश्वेंद्र सिंह ने जीत हासिल की है। उन्होंने भाजपा के डॉ. शैलेश सिंह को हराया है।
  • जोधपुर जिले की सरदारपुरा विधानसभा सीअ से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जीत गये है। उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेता शंभूसिंह खेतासर को हराया है।
  • झालवाड़ जिले की झालरापाटन से मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे चुनाव जीत गई। उन्होंने कांग्रेस के मानवेंद्र सिंह को हराया है। बीजेपी के पूर्व नेता और अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खिलाफ कांग्रेस ने मैदान में उतारा था। मानवेंद्र सिंह ने पिछले महीने ही कांग्रेस ज्वाइन की थी।
  • अजमेर जिले की अजमेर दक्षिण से भाजपा की अनिता भदेल पुन: चुनाव जीत गई है। एससी की इस सुरक्षित सीट पर भदेल ने कांग्रेस के हेमंत भाटी को शिकस्त दी है।
  • भीलवाड़ा जिले में एससी के लिए आरक्षित शाहपुरा सीट भाजपा के खाते में गई है। यहां से विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल चुनाव जीत गये है। उन्होंने कांग्रेस के महावीर प्रसाद को हराया है।
  • सिरोही से कांग्रेस संयम लोढ़ा चुनाव जीत चुके है।

विधानसभा चुनाव के अपडेट के लिये क्लिक करें

 

 

Continue Reading
Advertisement

Facebook

Trending